top of page

रात उतर आया चांद

रात उतर आया

चांद

कुछ ओस की

चमचमाती बूंदों संग..


अटका रहा

वो रात भर

छज्जे पर मेरे

बातें करने को मेरे संग..


ओस की

बूंदों में डूबा

और चमक रहा था पूरा

मखमली सा उसका बदन..


आंख मेरी

उलझी रही बस

देखती रही उसको तब्स

धड़कने भी मेरी चल रही थी मंद..!!


रात उतर आया

चांद

कुछ ओस की

चमचमाती बूंदों संग..!!


85 views2 comments

2 Comments


Ehtesham Ansari
Ehtesham Ansari
Feb 24, 2021

Nice......😊

Like

Very

Like
bottom of page