top of page

कुछ ऐसा है तू

हवाओं के साज जैसा तू

दुआओं के अल्फाज जैसा तू


मुस्कुराहटों में खुशबू सा है तू

यादों में ख़्वाब सा है तू


बहारों में रंग सा है तू

दिल में उमंग सा है तू


सुबह की ताजगी सा है तू

शाम की खूबसूरती सा है तू


बांसुरी के संगीत सा है तू

मीरा के गीत सा है तू


गीता के शलोक सा है तू

राधा के व्योग सा है तू


इत्र में महक सा है तू

बचपने की चहक सा है तू


सबके लिए कुछ अलग सा है तू

इश्क़ कुछ कुछ मेरे जैसा है तू.!!


✍️ शायर मलंग

95 views5 comments

Recent Posts

See All
bottom of page