ये दिल एक चित्रकार है

ये दिल

एक चित्रकार है

ज़िंदगी के पटल पर

उँडेलता है कई तरह के रंग


खुश हो अगर

तो बखेरता है नीले गुलाबी हरे लाल रंग

ख़ुशियों से भरे

मिल के चलते सब एक संग

महकते चहकते

ख़ुशनुमा

आकाश, ज़मीन नदी पेडों जैसे

बस उड़ाते हुए

कई बेजोड़ दिल के किस्सों के संग


उदास हो अगर

तो भर लाता है कुछ

मध्यम से कलर

जैसे बैठे हों साख पर कुछ पंछी

इंतजार में पत्तों के उगने को लिए

अपने मन भर

जैसे फिरते हों भौरे

ढूँढते हुए फूलों के महकने को

उन बागानों में

जहां दिल नाचता था उमड़ कर


कुछ रंग

इसने सँभाल रखें हैं

इंद्रधनुष से निकल रखे हैं

ये जानता है कुछ वैलवेट रैड जैसे रंगों को

ये मानता है दिल के उस स्काई ब्ल्यू कलर को

जो बस कुछ ख़ास मौकों पर

ये बिखेरता है

जब हवाएँ उड़ाती हैं तुम्हारी ज़ुल्फ़ों को

जब चाँद बड़ा नजर आने लगता है

जब चाय में मजा आने लगता है

जब घंटे सैकेंड की तरह चलने लगते हैं

जब दो दिल एक संग धड़कने लगते हैं

तब बिखरते हैं

कुछ खास रंग

हर एक मुस्कराहट संग


ये दिल

एक चित्रकार है

ज़िंदगी के पटल पर

उँडेलता है कई तरह के रंग

ये दिल मलंग.!


लेखकः- शायर मलंग


59 views1 comment

Recent Posts

See All